गांव कालांवाली की कृष्णा देवी ने बताया कि उसने नया राशन बनवाना था और इसके लिए वह आठ माह से चक्कर काट रही है। महिला ने बताया कि कार्यालय के कंप्यूटर आपरेटर ने ऑन लाइन कार्ड तो बना दिया लेकिन अधिकारी के मौके पर न होने के कारण उस पर हस्ताक्षर नहीं होने के कारण उसे दूसरी बार आना पड़ेगा। इसी तरह ख्योंवाली के ¨बदर ¨सह ने बताया कि उसने गुलाबी कार्ड में अपने बच्चे का नाम दर्ज करवाना है और इसके लिए वे काफी समय से चक्कर काट रहा है। उसने बताया कि नाम दर्ज करवाने के लिए उसने वर्ष 2013 में सिरसा एडीसी कार्यालय से पत्र जारी करवाया हुआ है परंतु स्थानीय कार्यालय अधिकारी परेशान कर रहे हैं। गांव पक्का शहीदां की रानी ने बताया कि उसके राशन कार्ड को आधार कार्ड से ¨लक करवाना था लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही।

सेक्स प्रोडक्ट बेचकर ये 5 महिलाएं बनीं करोड़प

नईदिल्ली,24सितंबर।भारतमेंसेक्सयाउससेसंबंधितबीमारियोंकेबारेमेंजाननेकेलिएयुवाओंकोगूगलकासहारालेनापड़ताहै।लोगक्याकहेंगे,इसडर