Category Hierarchy

वाराणसी[हिमांशुअस्थाना]।दीपावलीकेबादभीबनारसकेक्रय-केंद्रोंतककिसानकाधानअपेक्षितमात्रामेंनहींपहुंचपारहाहै।अभीतकजिलेकेसभीकेंद्रोंपरकुलमिलाकरपांचसौकिसानोंकीभीआवकनहींहोसकीहै।लगभगसाठफीसदकिसानअभीतकअपनेधानकाभुगताननहींपासकेहैं।अधिकारीबतारहेहैंकि44क्रयकेंद्रोंपरअबतक1740मीट्रिकटनधानकीखरीदहोचुकीहै,लेकिनदूसरीतरफकिसानकीव्यथायहहैउन्हेंपांच-छहदिनबीतजानेकेबादभीभुगताननहींमिलसकाहै।

सरकारीदावेकेमुताबिकअधिकारियोंकोतीनकार्य-दिवसोंकेभीतरकिसानोंकेखातेमेंधनपहुंचानेकीजिम्मेदारीदीगईहैलेकिनइसमेंकरीबएकसप्ताहकासमयलगरहाहै।कृषिअधिकारियोंनेइसकाकारणपीएफएमएसपेमेंटसिस्टमकोबतायाहै।इधर,किसानोंकाकहनाहैआरटीजीएसप्रणालीसेतोभुगतानकीगतिकाफीतेजहोजानाचाहिए।

बनारसमें44क्रयकेंद्रोंपरनोडलअधिकारी:बनारसकेकुल44धानक्रयकेंद्रोंसेइससाल40500मीट्रिकटनधानखरीदनेकालक्ष्यहै,जबकिसरकारअभीकिसानोंकीबाटजोहरहीहै।अबतक42सक्रियक्रय-केंद्रोंपरकुल425किसानोंसेधानकीखरीदकीजाचुकीहै।अबतककुल1740मीट्रिकटनधानकीखरीदबनारससेहोचुकीहै,जोपिछलेसालकेमुकाबलेलगभगसवागुनाअधिकहै।कृषिविभागद्वाराजारीखरीफक्रयवर्ष2020-21केअंतर्गत75लाखरुपयेसेज्यादाकाभुगतानकिसानोंकोहोचुकाहै।बाकीके52लाखसेअधिककाभुगतानप्रक्रियामेंहै।

28फरवरीतक40500मीट्रिकटनहोनीहैधानखरीद

तयसमय-सीमाअर्थातअगलेसाल28फरवरीतक40500मीट्रिकटनधानकीखरीदकीजानीहै।इसलक्ष्यकोपानाकृषिविभागकेलिएएकचुनौतीहै।क्रय-केंद्रोंपरबोरा,तौलमशीन,पंखाजैसेसंसाधनउपलब्धहैंऔरकर्मचारीवनोडलअधिकारीड्यूटीदेरहेहैं,मगरकिसानपहुंचसेदूरहैं।सबसेबड़ीबातजिलाधिकारीकेनिर्देशपरपहलीबारलेखपालकोहीनोडलअधिकारीकेरूपमेंनियुक्तकियागयाहै,जिसेक्षेत्रकीबेहतरसमझहो।

बनारसमेंहोताहै23लाखक्विंटलधानकाउत्पादन:जिलाखाद्यविपणनअधिकारीअरुणकुमारत्रिपाठीकेअनुसारबनारसमेंहरसाल23लाखक्विंटलधानकाउत्पादनहोताहै।पचासक्विंटलतकधानबेचनेवालेकिसानोंकोप्राथमिकतादीजाएगी,जबकिसौक्विंटल सेअधिकधानबेचनेवालेकिसानोंकीफसलकासत्यापनअनिवार्यकरदियागयाहै।इसबारआनलाइनरजिस्ट्रेशनकरवाकरहीकिसानक्रय-केंद्रोंपरधानबेचनेआसकेंगे।

1868रुपयेप्रतिक्विंटलहैधानकाभाव:समर्थनमूल्यकेअनुसारक्रय-केंद्रोंपरधानकामूल्य1868रुपयेप्रतिक्विंटलनिर्धारितहै,जबकि1888रुपयेग्रेडएकेधानकाभावहै।अच्छीबातहैकिबिचौलियोकेबिनाहीभुगतानपीएसएमएसद्वारासीधेकिसानोंकेखातेमेंपहुंचानेकीव्यवस्थानिर्धारितहै।

यहहैपिछलेसालकीस्थिति:पिछलेसाल47,300मीट्रिकटनधानकीखरीदारीहुईथी,जबकिइससालइससेकरीबसातहजारमीट्रिकटनकमकालक्ष्यहै।कोरोनामहामारीकेकारणधानउत्पादनमेंकमीआनेकेसंकेतहैं।पिछलेसाल1815रुपयेधानकासमर्थन-मूल्यरखागयाथा,जबकिइससालइसमें58रुपयेकीवृद्धिकीगईहै।

हरहुआमेंक्रयकेंद्रखेतोंसेकाफीदूर:हरहुआब्लाकमेंइससालमात्रएकधानक्रयकेंद्रहोनेसेकिसानोंकोअपनाधानबेचनेकेलिएलंबीदूरीतयकरनीपड़रहीहै।अबतकमात्र31किसानही730.20क्विंटलधानबेचसकेहैं,जबकि15अक्टूबरसेहीक्रय-केंद्रखोलागयाहै।

गोसाईंपुरमोहावधानक्रयकेंद्रहरहुआकीविपणननिरीक्षकबबिताङ्क्षसहकेअनुसारकेंद्रपरइलेक्ट्रानिककांटा,नमीमापकयंत्र,बिनोइंगफैन,झरना,पल्लीदारजैसीसुविधाएंउपलब्धहैं।17फीसदकेअंदरनमीवालेधानकीखरीदहोरहीहै।किसानोंकेखातेमें1868रुपयेप्रतिक्विंटलकीदरसेभुगतान-राशिभेजदीजातीहै,जो72घंटोंमेंखातोंमेंपहुंचजातीहै।पहलेब्लाकमेंदोक्रय-केंद्रहोतेथे।किसानोंकीशिकायतहैकिकेंद्रदूरहोनेकेकारणउपजलेकरजानाकठिनहोरहाहै।उन्होंनेअत्यधिककिरायावहनकरनापड़रहाहै।विपणननिरीक्षककायहभीकहनाहैकिकिसानोंकीफसलसमयसेतैयारनहींहोपानेसेखरीदारीकीप्रक्रियाधीमीचलरहीहै।पांचनवंबरकेबादहीकिसानोंकाक्रय-केंद्रोंपरआनाशुरूहोसका।

चिरईगांवके67किसानोंमेंसे46कोभुगतान:चिरईगांवमेंमूल्यसमर्थनयोजनाकेतहतखुलेसरकारीधानक्रयकेंद्रोंकेपूर्णरूपसेसंचालितनहींहोनेसेकिसानोंकीपरेशानीबढ़गईहै।किसानधानबेचनेकेलिएक्रय-केंद्रोंपरपहुंचरहेहैंं,तोउन्हेंदिसंबरकेअंतमेंआनेकोकहाजारहाहै।चिरईगांवमेंखाद्यएवंरसदविभागगौराकलाऔरयूपीएग्रोकेंद्रभगतुआंपरहीधान-खरीदकीप्रक्रियाशुरूहोसकीहै।गौराकलाकेंद्रप्रभारीकैलाशनेबतायाकिअबतक67किसानोंसे2093क्विंटलधानकीखरीदहुईहै,जिसमेंसे46किसानोंकोभुगतानकरदियागयाहै।इधर,यूपीएग्रोकेभगतुआंधानक्रयकेंद्रपरविगत17नवंबरसेधान-खरीदशुरूहुईहै।यहांछहकिसानोंसे479क्विंटलधानकीखरीदहुईहै,मगरभुगतानकिसीकोनहींहुआहै।दुकानदारकृषकोंसे1200सौरुपयेप्रतिक्विंटलधानखरीदरहेहैं।

राजकीयधानकेंद्रपरआएमहजदोकिसान

काशीविद्यापीठब्लाकमेंराजकीयधानक्रयकेंद्र(भूलनपुर)स्थापितहुएएकमाहसेज्यादाहोगया,मगरयहांअबतकमहजदोकिसानोंनेकुल32क्विंटलहीधानबेचाहै,जबकिकेंद्रपरखरीदकालक्ष्य5हजारक्विंटलतयहै।मालूमहोकिगतसीजनमेंगेंहूकीखरीदकालक्ष्यभीइसकेंद्रद्वारापूर्णनहींहोपायाथा,जिसकाकारणशहरीब्लाककाहोनाबतायाजातारहा।हैरतकीबाततोयहहैकियहांकेखेतोंमेंकईस्थानोंपरकालोनियांविकसितहोरहीहैं।चोलापुरक्षेत्रकेरौनाकलाकेखाद्यविपणनकेंद्रप्रभारीराजेशमौर्याकेअनुसारअबतककुल40किसानोंसे1100क्विंटलधानकीखरीदकीगईहै।लगभगयहीसूरतेहालमिर्जामुरादकाभीहै।