Category Hierarchy

मनाली,जसवंतठाकुर।सरहदपारचीनवपाकिस्तानकीसंदिग्धगतिविधियोंकेबीचभारत नेलद्दाखसेसटेसीमांतइलाकोंकीकिलेबंदीशुरूकरदीहै।सीमावर्तीक्षेत्रको12महीनेतक जोड़ेरखनेकेलिएरक्षामंत्रालयपश्चिमीहिमालयक्षेत्रमेंछहसुरंगोंकानिर्माणकरेगा।करीब नौकिलोमीटरलंबीरोहतांगसुरंगबननेकेबादरक्षामंत्रालयअबमनाली-लेहमार्गमेंआनेवाले16400 फीटऊंचेबारालाचादर्रापर13किलोमीटरलंबीसुरंगबनानेजारहाहै।इसकेअलावा17480फीटऊंचेतांगलांग-ला दर्रेमेंसातकिलोमीटरलंबीऔर16600फीटऊंचेलाचूलंग-लादर्रामें14किमीसुरंगबनानेकीतैयारीमेंहै।

बीआरओकीमानेंतोलद्दाखमेंचीनकीअंतरराष्ट्रीयसीमातकजानेवालेमनाली-लेहमार्गकोसालभरवाहनोंकीआवाजाहीकेलिएखुलारखनेकेलिएबारालाचा,तांगलांग-लाऔर लाचूलंग-लादर्राकेनीचेसुरंगबनानाबेहदजरूरीहै।सर्दियोंमेंभारीबर्फबारीकेकारणमनाली-लेहमार्गछहमहीनेतकबंदहोजाताहै।इसदौरानमात्रहवाईसेवाहीसीमावर्तीक्षेत्रमेंपहुंचनेकाएकमात्रजरियारहजाताहै।सीमावर्तीक्षेत्रकेसफरकासरलबनानेकेलिएरक्षामंत्रालयनेइनदर्रोंपरबननेवालीसुरंगोंको सैद्धांतिकमंजूरीदेदीहै।

बारालाचासुरंगकी(ड्राइंग)फिजिबिलिटीरिपोर्टपरकामशुरूहोगयाहै।तांगलंग-लाऔरलाचूलंग-लादर्रेकेसुरंगनिर्माणकोलेकरभीफिजिबिलिटीरिपोर्टकाकार्यशीघ्रशुरूकियाजाएगा।कारगिलयुद्धकेदौरानमनाली-लेहमार्ग सेनाकेलिएलाइफलाइनसाबितहोचुकीहै।रोहतांगसुरंगबननेकेबादभीभारतीयसेनासर्दियोंमेंलद्दाखक्षेत्रमेंअंतरराष्ट्रीयसीमातकनहींपहुंचसकतीहै।सीमातकआसानीसेपहुंचनेकेलिएपश्चिमीहिमालयक्षेत्रमेंकरीबछहसुरंगोंकानिर्माणपाइपलाइनमेंहै।इनदर्रोंपरसुरंगनिर्माणहोनेसेमनाली-लेहमार्गकीदूरीघटजाएगीऔरसेनाकोबॉर्डरतकपहुंचानेमेंबेहदकमसमयलगेगा।कारगिलतकपहुंचनेकेलिएशिंकुलादर्रामेंभीकरीबसवातीनकिलोमीटरलंबीसुरंगबनानेकीयोजनाहै।

-मोहनलाल,अतिरिक्तमहानिदेशक,बीआरओ।

1962मेंभीइसीरास्तेसेघोड़ोंद्वारा पहुंचाएगएथेहथियार1962केचीनयुद्धकेदौरानमनाली-लेहकेरास्तेहीभारतकीसेना घोड़ोंपरहथियारलेकरलेह-लद्दाखपहुंची थी।मनालीवलाहुलकेवीरयोद्धाकर्नलपृथीचंद,कर्नलखुशहालचंदऔरकैप्टनभीमचंदनेइसरास्तेसेहीसीमातकपहुंचकरमोर्चासंभालाथा।कर्नलपृथीऔरकर्नलखुशहालचंदकोमहावीरचक्र,जबकिकैप्टनभीमचंदकोपरमवीरचक्रसेसम्मानितकियागयाथा।इनसुरंगोंकानिर्माणहोनेसेसीमावर्तीक्षेत्रपहलेकीअपेक्षाऔरसुदृढ़होंगे।

120किमीदूरीहोगीकम

रोहतांगदर्रेपरसुरंगकेबननेसेलेहकीदूरी48 किलोमीटरकमहुईहै।बारालाचा,तांगलांग- लाऔरलाचूलंग-लादर्रेपरसुरंगनिर्माण होनेपरमनालीसेलेहकीदूरी120 किलोमीटरऔरकमहोजाएगी।साथहीदो दिनकासफरभीघटकरएकदिनकारहजाएगा।सेनाकामहत्वपूर्ण मनाली-लेहमार्गसालभर केलिएखुलारहेगा।