Category Hierarchy

संवादसहयोगी,मोदीनगर:

मानसिकबीमारियोंकोछिपानेसेवहऔरबढ़तींहैं।धीरे-धीरेइसकाप्रभावशरीरकेअन्यअंगोंपरभीपड़नेलगताहै,जिसकेपरिणामकाफीनुकसानदेहसाबितहोतेहैं।ऐसेमेंव्यक्तिअवसादमेंभीचलाजाताहै।इसलिए,मानसिकबीमारियोंसेशर्मनहींकरनीचाहिए।चिकित्सकसेइसबारेमेंपरामर्शलेनाचाहिए।तभी,समयरहतेउपचारकरबीमारीसेनिजातपानेमेंकामयाबीहासिलहोसकेगी।येबातेंमंगलवारकोविधायकडॉ.मंजूशिवाचनेगोविदपुरीस्थितसामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रमेंआयोजितमानसिकस्वास्थ्यशिविरमेंकहीं।

यहकैंपराष्ट्रीयमानसिकस्वास्थ्यमिशनकेअंतर्गतलगायागयाथा।शिविरकाशुभारंभविधायकडॉ.मंजूशिवाचद्वाराफीताकाटकरकियागया।शिविरसुबह11बजेशुरूहुआ,जोशामचारबजेतकचला।इसदौरानमानसिकरोगविशेषज्ञोंकीटीमद्वारालोगोंकीजांचकीगई।उन्हेंनिश्शुल्कपरामर्शदियागया।साथहीदवाओंकाभीवितरणकियागया।शिविरमेंमानसिकरोगविशेषज्ञडॉ.साकेत,डॉ.आशुतोष,डॉ.कैलाशचंदसमेतपूरीटीममौजूदरहीं।कुल66लोगोंनेअपनेस्वास्थ्यकीजांचकराई।इसदौरानचिकित्सकोंनेलोगोंकोसलाहदीकिअपनीदिनचर्यामेंव्यायामकोविशेषस्थानदें।इससेशरीरतोस्वस्थहोगाही,साथहीमस्तिष्ककीएकाग्रताभीबढ़ेगी।मानसिकरूपसेभीमजबूतीबढ़ेती।तनावमुक्तजीवनशैलीकेलिएव्यायामकोजरूरीबताया।

इसमौकेपरडॉ.अंशुचौधरी,डॉ.साकेत,डॉ.प्राची,अमनकौशिक,अंकुर,केपी,राकेशआदिउपस्थितरहे।इससेपहलेभीराष्ट्रीयमानसिकस्वास्थ्यमिशनकेतहतभोजपुरपीएचसीमेंशिविरलगाथा।