Category Hierarchy

गिरिडीह:अगहनमाहबीतनेकोहै।जिलेमेंधनकटनीभीअंतिमचरणमेंहै।अधिकांशकिसानखेतोंमेंलगीधानकीफसलकोकाटकरमेड़ाईभीकरचुकेहैं,लेकिनसरकारकीओरसेअबतकधानक्रयकीव्यवस्थानहींकीजासकीहै।विधानसभाचुनावकेकारणसरकारऔरविभागकाध्यानइसओरनहींहै।पदाधिकारियोंवकर्मियोंकीचुनावीव्यस्तताऔरआदर्शआचारसंहिताकेकारणधानकाक्रयशुरूनहींहोपायाहै।किसानधानक्रयशुरूहोनेकीआसलगाएबैठेहैं।

बतादेंकिहरवर्षसरकारकीओरसेसरकारीदरपरकिसानोंसेधानक्रयकरनेकीव्यवस्थाकीजातीहै।पैक्सोंकेमाध्यमसेधानकाक्रयकियाजातारहाहै,लेकिनअभीतकजिलामेंइसदिशामेंकोईपहलनहींदेखीजारहीहै,जिससेकिसानोंमेंमायूसीहै।किसानरोहितवर्मा,सीतारामदास,बालेश्वरयादवआदिनेबतायाकिसरकारकीओरसेधानक्रयकरनेसेकाफीराहतमिलतीहै।इससेधानबेचनेकेलिएउन्हेंभागदौड़नहींकरनीपड़तीहै,लेकिनइसबारधानकाक्रयशुरूहोनेकीबाततोदूर,इसकीसुगबुगाहटभीनहींदेखीजारहीहै।इससेकिसानोंमेंनिराशाहै।

व्यापारियोंकीकटेगीचांदी:

धानकटाईशुरूहोनेकेसाथहीग्रामीणक्षेत्रोंमेंव्यापारीऔरबिचौलिएमंडरानेलगतेहैं।वेकिसानोंसेऔने-पौनेदाममेंधानक्रयकरबाहरलेजाकरऊंचेदाममेंबेचतेहैं।इससेकिसानोंकोआर्थिकक्षतिहोतीहै।इसबारभीव्यापारीऔरबिचौलिएक्षेत्रमेंघूम-घूमकरधानकाक्रयशुरूकरदिएहैं।बतादेंकिजिलेकेअधिकांशकिसानोंकीआर्थिकस्थितिठीकनहींहै।वेमहाजनोंसेकर्जलेकरखेतीकरतेहैं।धानकटनेकेबादमहाजनपैसावापसकरनेकेलिएदबावबनानेलगतेहैं।किसानधानबेचकरहीमहाजनोंकाकर्जचुकातेहैं।इसलिएफसलकटनेकेतुरंतबादकिसानोंकेलिएधानबेचनामजबूरीहोजातीहै।कर्जलेकरखेतीकरनेवालेकिसानोंकोधानबेचनेकीजल्दीरहतीहै।वेकमकीमतमिलनेकेबावजूदव्यापारियोंऔरबिचौलियोंकेपासधानबेचनेकोविवशहोजातेहैं।इसीकाफायदाव्यापारीऔरबिचौलिएउठातेहैं।यदिसमयपरसरकारकेस्तरसेधानक्रयकरनाशुरूकरदियाजातातोबिचौलियोंकीदालनहींगलतीऔरकिसानोंकोभीलाभहोता।

चुनावकेबादहोगीपहल:

जिलासहकारितापदाधिकारीनीलमज्योतिनेबतायाकिधानक्रयसेसंबंधितसरकारकासंकल्पआचुकाहै,लेकिनचुनावकेकारणइसदिशामेंकुछनहींकियाजारहाहै।चुनावकेबादहीधानसेसंबंधितकोईव्यवस्थाहोपाएगी।