Category Hierarchy

मधुबनी,जासं।जिलेमेंकिसानोंकेलिएअनेकहितकारीसरकारीयोजनातोचलरहीहैं,लेकिनसिंचाईकीमाकूलव्यवस्थानहींरहनेकेकिसानोंकोइसकासहीलाभनहींमिलपारहाहै।समयपरवर्षानहींहोनेवउर्वरकसहितबीजों,कीटनाशीवअन्यसामानोंकीऊंचीकीमतरहनेकेकारणकृषिघाटेकासौदासाबितहोरहाहै।जिलेमेंकृषिकार्यकेलिएविभिन्नयोजनाओंसेसरकारीनलकूपतोलगाएगए,लेकिनसरकारीवविभागीयउदासीनताकेकारणएककेबादएकनलकूपबंदहोतेचलेगए।जिसकारणवर्तमानसमयमेंपटवनकीस्थितिअत्यंतहीदयनीयहै।आंकड़ोंकीमानेंतोजिलेमेंसरकारीनलकूपोंकीसंख्या383है।जिसमेंमात्र180केचालूहोनेकादावाविभागकररहाहै।हालांकि,इनचालूनलकूपोंमेंअधिकांशमेंनालानहींरहनेकेकारणपटवनलक्ष्यकेअनुरूपनहींहोरहाहै।

वहीं,लघुसिंचाईविभागसेमिलीजानकारीकेअनुसारविद्युतदोषसे27,संयुक्तदोषसे96,अन्यदोषसे80नलकूपबंदपड़ेहैं।

नाबार्डकेतहतलगनेहैं100नलकूप

नाबार्डकेतहत100नलकूपलगाएजानेहैं।जिसमेंमात्र31परकामपूराहोसकाहै।यहीहालउद्वहसिंचाईयोजनाकाहै।इसयोजनासेजिलेमें106नलकूपमेंसेमात्र22चालूहैं।जिलेमेंनहरसिंचाईप्रणालीकेतहतपश्चिमीकोसीनहर,कमलानहरपरियोजनाकेतहतबनीनहरेंहैं।पश्चिमीकोसीनहरमेंसमयसेपानीनहींआरहाहै।यदिआताभीहैतोवितरणीवउपवितरणीनहींरहनेसेखेतोंतकपानीनहींपहुंचरहा।सिंचाईविभागकेअधिकारीकहतेहैंकिविभागमेंआवंटनकाअभावतोहैही,कर्मियोंकाभीघोरअभावहै।

राज्यसरकारकिसानोंकोदेरहीआर्थिकमदद

खेतीकेलिएकिसानोंकोनिजीनलकूपबनवानेमेंबिहारसरकारउनकीआर्थिकमददकरतीहै।लघुजलसंसाधनविभागनलकूपबनवानेवालेकिसानोंको21हजाररुपयेतकआर्थिकमददकररहीहै।बिहारमेंअबसरकारीनलकूपकाकॉन्सेप्टखत्महोचुकाहै।अबकिसानअपनानिजीनलकूपहीबनवातेहैंऔरउसीसेखेतोंकोपानीदेतेहैं।फिलहालराज्यसरकारनलकूपबनवानेकेलिएशैलोनलकूपकीबोरिंगकेलिएसौरुपयेप्रतिफीटकीदरसेअधिकतम15हजाररुपयेतककीआर्थिकमददकरतीहै।अबसरकारनेयहआर्थिकमदद35हजाररुपयेकरदियाहै।इसीतरहकमगहराईकेनलकूपकीबोरिंगकेलिए182रुपयेप्रतिफीटकेहिसाबसेअधिकतम35हजाररुपयेआर्थिकमददकाप्रावधानहै।इसकेअलावामोटरपंपकेलिएभीसरकार10हजाररुपयेकीआर्थिकमदददेरहीहै।

नलकूपकेलिएकिसेमिलसकतीमदद

पहलेनिजीनलकूपकेलिएआर्थिकमददउन्हींकिसानोंकोमिलताथाजिन्हेंकमसेकमएकएकड़जमीनहोतीथी।इसवजहसेइसयोजनाकालाभबेहदकमकिसानोंकोमिलपाताथा।क्योंकि,बिहारमेंएकएकड़सेकमजमीनवालेकिसानोंकीसंख्या82.9प्रतिशतहै।इसलिएराज्यसरकारनेफैसलालियाहैकिअगरकिसानकेपास40डीसमिलजमीनहैतोभीवहनलकूपऔरबोरिंगकेलिएसरकारसेआर्थिकमददपासकतेहैं।

ऑनलाइनकरेंआवेदन

इसयोजनाकालाभलेनेकेलिएऑनलाइनआवेदनकरसकतेहैं।किसानलघुजलसंसाधनविभागकीवेबसाइटपरसभीजानकारीकेसाथआवेदनकरेंगे,जिसकेबादमामूलीजांचकेबादनलकूपऔरबोरिंगकेलिएआर्थिकमददपासकेंगे।एकअनुमानकेमुताबिकएकनलकूपसे250हेक्टेयरमेंसिंचाईहोतीहै।