Category Hierarchy

जागरणसंवाददाता,सोनीपत:खरीफसीजनमेंकिसानोंकोयूरियाऔरडीएपीकीपरेशानीनहो,इसकेलिएकृषिविभागकीओरसेविशेषकदमउठाएजारहेहैं।विभागनेअगस्ततककिसानोंको60हजारमीट्रिकटनयूरियाऔरडीएपीदेनेकानिर्णयलियाहै।अधिकारियोंकाकहनाहैकिफसलोंमेंबेहतरपैदावारकेलिएउर्वरककीबेहतरसुविधादीजारहीहै।

जिलेमेंकरीबएकलाख21हजारकिसानकृषिसेसंबंधरखतेहैं।किसानोंद्वाराहरवर्षखरीफसीजनकेअंतर्गतधानवअन्यफसलोंकीरोपाईऔरबिजाईकीजातीहै।इनकीबेहतरपैदावारकेलिएकिसानउर्वरकोंकाप्रयोगकरतेहैं।इनदिनोंजिलेमेंखरीफफसलोंकीरोपाई-बिजाईकाकार्यलगभगपूराहोगयाहै।ऐसेमेंकिसानफसलोंमेंउर्वरकोंकाप्रयोगकररहेहैं।इसदौरानकृषिविभागनेकिसानोंकोअप्रैलसेअगस्ततक49हजारमीट्रिकटनयूरियाऔर11हजारडीएपी(डाईअमोनियमफॉस्फेट)मुहैयाकरानेकालक्ष्यरखाहै।इससेकिसानोंकोकाफीसुविधामिलेगी।खरीफसीजनमेंकिसानोंकोयूरियाऔरडीएपीकीकिल्लतनहींआनेदीजाएगी।अबतकलक्ष्यकेअनुसारकरीब42हजारमीट्रिकटनयूरियाऔरडीएपीजिलेमेंपहुंचगयाहै।इसमहीनेडिमांडअनुसारकिसानोंकोउर्वरकोंकीसुविधादीजाएगी,ताकिउन्हेंकोईपरेशानीनहो।

-डॉ.अनिलसहरावत,कृषिउपनिदेशक,सोनीपत।