Category Hierarchy

जासं,प्रतापगढ़:इनदिनोंदेशकेकुछहिस्सोंमेंकिसानआंदोलनचर्चामेंहै।किसानोंसेसरकारकीरारचलरहीहै।धरनाप्रदर्शनहोरहाहै।इसकेइतरप्रतापगढ़केअधिकांशकिसानअपनेखेतोंमेंरमेहुएहैं।उनकोइसआंदोलनऔरसरकारद्वाराबनाएगएकृषिकेनएकानूनोंसेकोईमतलबनहींहै।वहटीवीपरभीइसेबहुतनहींदेखते।यहीनहींवहचाहतेहैंकिसरकारइसतरहकेमाहौलकोसामान्यबनानेकेलिएकामकरे।दैनिकजागरणनेजिलेकेकुछकिसानोंसेइसमसलेपरबातकीतोउसमेंयहीसबनिकलकरसामनेआया।

इससमयगेहूंऔरसरसोंकीबोआईचलरहीहै।हमउसीमेंलगेहैं।किसानआंदोलनकेबारेमेंथोड़ाबहुतसुनरहेहैं,लेकिनबहुतमतलबनहींहै।किसानोंसेहमदर्दीहै,लेकिनकिसानोंकोसड़कपरउतारनेकेपीछेजोलोगहैंवहठीकनहींकररहेहैं।

-विजयनारायणमिश्र,सरायशंकर

खाद,बीज,पानीकीचिताकेआगेहमेंकुछऔरनहींदिखता।नहरमेंपानीनहींआरहाहैऔरपंपिगसेटसेसिचाईबहुतमहंगीहै।ऐसेमेंहमपहलेअपनाखेतबचानेकेलिएपरेशानहैजोलोगराजनीतिमेंशामिलहैंउनकेमकसदकोकिसानोंकोसमझनाचाहिए।

-राजारामयादव,अजगरा

मंडीजिलेमेंएकहीहै।अगरसरकारखुलेबाजारमेंखेतीकिसानीकेउत्पादबेचनेकाकानूनलारहीहैतोमेरीनजरमेंयहगलतनहींहै।किसानोंकोमंडीकेअधिकारियोंवकर्मियोंकीमनमानीसेनिजातमिलेगी।ऐसेमेंमेरीसमझसेविरोधप्रदर्शनबंदहोनाचाहिए।

-प्रदीपकुमारसिंह,पीथापुर

कोईभीमसलाहोउसपरराजनीतिहोनेलगतीहै।किसानतोअपनीसमस्यासेपरेशानहैंऔरराजनीतिकरनेवालोंकोइसअवसरकालाभमिलरहाहै।जबखुदसत्तामेंऐसेदलरहतेहैंतोकिसानोंकोभूलजातेहैं।अबमौकेकाफायदाउठाकरमाहौलकोखराबकररहेहैं।

फसलोंकासमर्थनमूल्यहरकिसानचाहताहै,लेकिनइसकेलिएराजनीतिकदलोंकेहाथकीकठपुतलीबनजानाकतईउचितनहींहै।किसानोंकोअपनीआवाजउठानीचाहिए,लेकिनलोगोंकीदिनचर्याऔरसहूलियतकोबाधितकरकेनहीं।किसानोंकासम्मानसबकरतेहैं।

-राजमोहनतिवारी,जोगापुर