Category Hierarchy

विपिनअवस्थी,इंदौर।भलेहीपंजाब,हरियाणाऔरपश्चिमीउत्तरप्रदेशकेचुनिंदाकिसानसंगठननएकृषिकानूनोंकाविरोधकररहेहों,लेकिनदेशकेअन्यप्रदेशोंमेंकिसानोंकोनएकृषिकानूनोंकालाभमिलनाशुरूहोगयाहै।मध्यप्रदेशकेइंदौरजिलेमेंप्याजउगानेवालेकिसानोंसेदक्षिणभारतकेकर्नाटककीकंपनीनेअनुबंधकियाहै।इसकेतहत10किसानअपनी10एकड़जमीनपरकंपनीकीमांगकेअनुरूपप्याजउगाएंगेऔरफसलआनेपरकंपनीकोहीदेंगे।कंपनीबदलेमेंकिसानोंको12रुपयेप्रतिकिलोकाभावदेगी,फिरचाहेबाजारमेंप्याजकीकीमतकितनीहीकमक्योंनहो।कंपनीइसप्याजकोदक्षिणभारतकेविशेषव्यंजनसांभरवडोसामेंइस्तेमालकरनेकेलिएकर्नाटक,केरलवतमिलनाडुमेंसप्लायकरेगी।

कर्नाटककीकंपनीनेमध्यप्रदेशकेकिसानोंसेकियाप्याजउगानेकाअनुबंध

अनुबंधकेतहतकिसानोंकोप्याजकाबीजकंपनीनेउपलब्धकरवायाहै।यहप्याजआकार,स्वादऔरगुणवत्तामेंविशिष्टहोताहै।यहीकारणहैकिइसकाउपयोगडोसाऔरसांभरकोस्वादिष्टबनानेमेंकियाजाताहै।इसकाउत्पादनएकएकड़में200क्विंटलतकहोताहै।यहदेखतेहुएकंपनीनेइंदौरजिलेकेदेपालपुरगांवकेकिसानोंसे10एकड़जमीनमेंप्याजलगवानेकीशुरुआतकीहै।कंपनीकेडिप्टीमैनेजरनरेशमोडकनेबतायाकिअनुबंधकेतहतप्याजनिकलनेकेबादभाड़ाभीकिसानोंकोनहींदेनाहोगा।कंपनीखुदप्याजकोखेतसेकर्नाटकलेकरजाएगी।

आयुर्वेदिकउत्पादोंमेंभीहोगाउपयोग

कंपनीनेकईआयुर्वेदिककंपनियोंसेभीप्याजआपूर्तिकरनेकाअनुबंधकियाहै।प्याजकाउपयोगकईप्रकारकीदवाइयांबनानेमेंभीहोताहै,जिसकेलिएविशेषप्रकारकेप्याजकीआवश्यकताहोतीहै।यहप्याजआयुर्वेदिकदवाईबनानेकेलिएउपयुक्तहै।देपालपुरकेकिसानलाखनसिंहपुत्रसीतारामगहलोतनेबतायाकिइसप्याजकेएकपौधेमेंचारसेपांचप्याजनिकलेंगे।

सामान्यप्याजजल्दीखराबहोनेकाखतराभीरहताहै,जबकियहजल्दीखराबनहींहोगा।इसकाआकारछोटाहोनेसेइसकेभंडारणमेंभीदिक्कतनहींआएगी।एकअन्यकिसानराजेन्द्रसिंहदरबारनेबतायाकिसामान्यदेशीप्याजमेंएकएकड़में130से150क्विंटलप्याजनिकलताहैजबकिइसनएउन्नतबीजमें200क्विंटलप्रतिएकड़तकउत्पादनहोगा।