Category Hierarchy

जागरणसंवाददाता,सासाराम:रोहतास।कोरोनावायरसनेकिसानोंकीसमस्याकोऔरबढ़ादियाहै।गेहूंकेखरीददारनहींमिलनेसेवेऔने-पौनेदामपरउसेबेचनेकेलिएकिसानविवशहैं।सहकारिताविभागद्वारापैक्सोंकोगेंहूखरीदनेकेलिएअधिकृतकरनेकेबावजूदखरीदारीनहींहोपारहीहै।इसकेचलतेकिसानोंकोन्यूनतमसमर्थनमूल्यनहींमिलपारहाहै।समर्थनमूल्यपरगेहूंखरीदनहींहोनेसेजिलेकेकिसानमजबूरनअपनीमेहनतसेउगाईहुईगेहूंकीफसलकोखुलेबाजारमेंसाहूकारोंवबिचौलियोंकेहाथबेचनेकोविवशहैं।हाड़तोड़मेहनतकेबादभीउसकेअनाजकाउचितदामनहींमिलनेसेएकबारफिरअन्नदातानिराशहैं।

1975रुपयेप्रतिक्विटलहैन्यूनतमसमर्थनमूल्य:

वर्ष2021मेंसरकारनेगेहूंकान्यूनतमसमर्थनमूल्य1975रुपएप्रतिक्विटलतयकियाहै।लेकिनसरकारकीएजेंसियोंद्वाराखरीदशुरुनहींकिएजानेसेकिसानोंकोमजबूरीमेंबिचौलियोंको1600से1650रुपएप्रतिक्विटलकेहिसाबसेबेचनापड़रहाहै।इससेकिसानोंकोलगभगसाढ़ेतीनसौरुपएप्रतिक्विटलकानुकसानउठानापड़रहाहै।अबतकजिलेमेंगेहूंकीखरीदकिसीएजेंसीद्वारानहींकिएजानेसेबिचौलिएहावीहोगएहैं।किसानोंकाकहनाहैकिधानकामूल्यभीनहींमिलनेकेबादमेंगेहूंकीखेतीसेकाफीउम्मीदथी,लेकिनकिसानोंकोमहज16सौसेसाढ़े16सौरुपयेकीदरसेगेहूंकादाममिलरहाहै।जबकि,सरकारनेगेहूंकेलिएन्यूनतमसमर्थनमूल्य1975रुपयेप्रतिक्विटलकादरनिर्धारितकररखाहै।किसानोंनेबतायाकिगेहूंकीखेतीमेंप्रतिएकड़करीब10हजाररुपयेकाखर्चआताहै।ज्यादातरकिसानकर्जलेकरहीखेतीकरतेहैं।इसलिएफसलकटनेकेसाथहीवेउत्पादकोबेचनेकीकोशिशशुरूकरदेतेहैं।

कहतेहैंअधिकारी:

जिलेमेंकिसानोंसेगेहूंखरीदकीतैयारीशुरूकरदीगईहै।गेहूंकान्यूनतमसमर्थनमूल्य1975रुपयेप्रतिक्विटलतयकियागयाहै।जल्दहीसरकारद्वारानिर्धारितसमर्थनमूल्यपरसभीकिसानोंसेगेहूंखरीदशुरूहोजाएगी।

जिलासहकारितापदाधिकारी-रोहतास