Category Hierarchy

-तीनदिवसीयसंस्कृतिबोधपरियोजनाअखिलभारतीयकार्यशालाकासमापनजागरणसंवाददाता,कुरुक्षेत्र:विद्याभारतीसंस्कृतिशिक्षासंस्थानकेअध्यक्षडा.ललितबिहारीगोस्वामीनेकहाकिअपनेमूलकोदेखना,उसेध्यानमेंरखनाऔरउसकेबारेमेंजाननाबहुतअनिवार्यहै।गंगापवित्रहैऔरकाशीमेंगंगाउत्तरवाहिनीहोतीहैऔरअपनेमूलकीओरदेखतीहै।ऐसेहीहमअपनेमूलकीओरदेखतेहैंतोवास्तवमेंपवित्रकामकररहेहोतेहैं।

उन्होंनेयेबातविद्याभारतीसंस्कृतिशिक्षासंस्थानमेंआयोजिततीनदिवसीयसंस्कृतिबोधपरियोजनाअखिलभारतीयकार्यशालाकेसमापनसमारोहकीअध्यक्षताकरतेहुएकही।उन्होंनेकहाकियहठीकहैकिआदर्शकीबातेंहमारेअंदरहोतीहैं।जबहमधीरे-धीरेविचारकरतेहैंतोउम्रकेसाथ,अनुभवकेसाथ,विद्याकेसाथविचारमेंपरिवर्तनआताहै।उसपरिवर्तनकोस्वीकारकरनाचाहिए।हमविचारशीलबनें,जहांपरिवर्तनकीआवश्यकताहै,वहांपरिवर्तनकरें।संस्थानकेनिदेशकडा.रामेंद्रसिंहनेकहाकिसंस्कृतिबोधपरियोजनाकेअंतर्गतसंस्थानकीअनेकगतिविधियोंकापूरेदेशमेंकुरुक्षेत्रसेसंचालनकियाजाताहै।परियोजनाकेराष्ट्रीयसंयोजकदुर्गसिंहराजपुरोहितनेकार्यशालामेंआएअधिकारियोंएवंदेशभरसेआएप्रतिभागियोंकाआभारजताया।

इन्होंनेभीकियासंबोधित

पूर्वीउत्तरप्रदेशकेक्षेत्रसंयोजकराजकुमारसिंह,पूर्वीउत्तरप्रदेशसेगिरिवर,बिहारकेसहक्षेत्रसंयोजकसंजीवकुमारझा,पश्चिमीउत्तरप्रदेशकेसहक्षेत्रसंयोजकडा.विनोदशर्मा,मध्यक्षेत्रकेक्षेत्रसंयोजकअंबिकादत्तकुंडल,सरस्वतीशिक्षापरिषदजबलपुरसेराघवेंद्रशुक्ल,पश्चिमीउत्तरप्रदेशकेक्षेत्रसंयोजकयशपाल,पूर्वीउप्रकेसहक्षेत्रसंयोजकजियालालनेभीकार्यशालाकोसंबोधितकिया।इसमौकेपरसंस्थानकेसहसचिववासुदेवप्रजापतिवसंस्थानकेशोधनिदेशकडा.हिम्मतसिंहसिन्हामौजूदरहे।